प्रदर्ष मंजूषा 5

प्रदर्ष मंजूषा 5 :  इस प्रदर्ष मंजूषा में पकी मिट्टी के बने थप्पा, साँचा, चक्का, गेंद, टोंटी, मनके चमकाने के साँचे आदि को प्रदर्शित किया गया है जिनका काल दूसरी शताब्दी ई0 पूर्व से चैथी […] Continue Reading…

Learn More

प्रदर्ष मंजूषा 6

प्रदर्ष मंजूषा 6 :   इस प्रदर्ष मंजूषा में पकी मिट्टी एवं अर्द्ध कीमती रों के मनके तथा कर्ण आभूषण प्रदर्शित है जिनका काल चैथी से छठी शताब्दी ई0 है।

 

Learn More

प्रदर्ष मंजूषा 7,8 और 9

प्रदर्ष मंजूषा 7,8 और 9 :   इन तीनों प्रदर्ष मंजूषाओं में लघु एवं बड़े मृदभांड, घंटी, लैम्प आदि को प्रदर्शित किया गया है। इनका काल दूसरी शताब्दी से छठी शताब्दी तक आँकी गई […] Continue Reading…

Learn More

प्रदर्ष मंजूषा 10

प्रदर्ष मंजूषा 10 :   इस प्रदर्ष मंजूषा में उत्तरी  कृष्ण मार्जित मृदभांड के टुकड़ों को प्रदर्शित किया गया है। इसमें सुनहरे रंग का छठच् प्रमुख है।

Learn More

प्रदर्ष मंजूषा 11

प्रदर्ष मंजूषा 11 :   इस प्रदर्ष मंजूषा में ताँबे तथा लोहे की पुरावशेष प्रदर्शित है। ताँबें की घंटी, अंजलश्लाका, कटोरे आदि एवं लोहे की बनी छेनी, छुरी तथा काँटी आदि प्रदर्शित है। इन […] Continue Reading…

Learn More